क्रिसमस 25 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है।

  क्रिसमस 25 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है

Christmas tree, Christmas image,happy Christmas day

Mary christmas


दोस्तों क्रिसमस ईसाई भाइयों का एक बहुत ही प्रसिद्ध  त्यौहार है। यह प्रत्येक वर्ष 25 दिसंबर को 


मनाया जाता है इस दिन यीशु का जन्म हुआ था। वह ईसाई धर्म के संस्थापक थे। 

25 दिसंबर यानी क्रिसमस डे आने से पहले सभी ईसाई भाई अपने अपने घरों की  साफ-सफाई 

करते हैं। और क्रिसमस डे के मौके पर अपने घरों को खूब सजाते हैं। वे अपने घरों में क्रिसमस ट्री 


लाते हैं, क्रिसमस ट्री एक प्रकार का कृतम पेड़ 

होता है,वह  इस पेड़ को सितारों से सजाते हैं। 

इस क्रिसमस  ट्री के पेड़ पर उपहार, घंटियां 

तथा रिबन भी रखते हैं। 25 दिसंबर को प्रत्येक वर्ष क्रिसमस 

डे के नाम से यह त्यौहार पूरे विश्व भर में मनाया जाता है। 24 दिसंबर से  ही लोग क्रिसमस डे एक


दूजे को विश करते हैं। बच्चे खासतौर पर क्रिसमस डे का बेसब्री से इंतजार करते हैं।


इस खुशी के मौके पर सभी लोग गिरजाघर जाते हैं। वहां वे भजन गाते हैं तथा ईश्वर से प्रार्थना 


करते हैं। इस खुशी के मौके पर बच्चों को संता क्लॉज का बेसब्री से  इंतजार रहता है। क्योंकि ऐसा माना जाता है की क्रिसमस डे पर संता 


क्लॉज बच्चों से मिलने आते हैं। संता क्लॉज बच्चों के लिए ढेर सारी मिठाइयां और खिलौने लाते हैं। 


क्रिसमस डे के इस खुशी के मौके पर  स्वादिष्ट केक, मिठाईयां तथा पेस्ट्री बनाई जाती है। लोग 


एक दूसरे को मेरी क्रिसमस की बधाइयां देते हैं। 

इस खास अवसर पर सभी दुकानों होटलों मॉलो 

तथा गिरजाघर को सजाया जाता है। देखा जाए तो क्रिसमस डे एक प्रकार से नए साल के आगमन का स्वागत भी करता है।

Comments