hindu muslim best poetry

              

Insaniyat poetry,hindu muslim poetry,ekta hindu muslim

Hindu muslim best poetry

मत करो धर्म के नाम पर देश को बदनाम।

मत करो धर्म के नाम पर देश को बदनाम। हम भारतीय हैं बस यही हो अपनी पहचान। बनना चाहते हो जो अगर सच्चा हिंदू,सिख, इसाई, मुस्लमान सबसे पहले बनो तुम इंसान। मत करो धर्म के नाम पर मेरे देश को बदनाम
Mat karo dharm ke nam par desh ko badnam hum bhartiye hain bas yehi ho apni pahchan। banna chahte ho jo agar sachcha hindi sikh esai musalman । sabse pahle bano tum insaan। mat karo dharm ke naam par mere desh ko badnam..।     
           
चार दिन की जिंदगी में।
चार दिन की जिंदगी में हिंदू मुसलमान सिख ईसाई करते हो धर्म का नाम देकर देश को बदनाम करते हो। परमानेंट ऐड्रसनहीं है, यारो ये दुनिया फिर तुम क्यों ऐसा काम करते हो।इंसानियत भी शर्मसार हो जाती है तुम्हारे कूकर्मों से जब तुम हैवानियत की हद पार करते हो। बेगुनाहों के खून से अपने हाथों को और मासूम बच्चियों मां बहनोंं कि आबरू को जब तुम तार-तार करते हो। इंसानियत भी शर्मसार हो जाती है जब तुम हैवानियत की हद पार करते हो।

Chaar din ki Zindagi Mein Hindu Musalman Sikh Isai karte ho। Dharm ka naam dekar desh ko Badnam karte ho। permanent address nahi hai Yaaron Yeh Duniya phir tum kyu Aisa kaam karte ho insaaniyat bhi Sharmsar Ho Jati Hai Tumhare kukarmo Se Jab Tum haiwaniyat ki had par karte ho। Begunaho ke Khoon Se Apne Hathon ko aur Masoom bachchiyon Maa Behno ki Aabroo Ko Jab Tum tar - tar karte ho। insaaniyat bhi Sharmsaar Ho Jati Hai Jab Tum haiwaniyat ki had par karte ho।
वहशी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए।

वहशी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए। धर्म के नाम पर लड़ गए एक दूजे का खून बहा गए। लो मिल गया खुनहिंदू मुसलमान का रंग इसके लाल ही रह गए। वहशी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए। रोता है यह दिल बहुत जब पढ़ता हूं अखबारों में बच्चियों को अपने हवस का शिकार और मासूमों का ये कत्ल कर गए। वैसी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए । धर्म के नाम पर मासूमों का कत्ल तुम कर गए किसी का बेटा किसी का भाई किसी के मांग का सिंदूर तुम छिन गए। वहशी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए। सुन लो ए धर्म के ठेकेदारों ना होगा तुमसे तुम्हारा रब भी खुश क्योंकि मासूमों के खुन से तुम अपने हाथों को रंग गए। वहशी दरिंदे बन गए इंसान अब हैवान बन गए।
Wahshi darinde ban gayein insan ab haiwan ban gayein। Dharm ke naam par largayein ek duje ka khoon baha gayein। Lo mil gaya Khoon Hindu Musalman Ka Rangiske Laal Hi Rah gayein। Wahshi darinde ban gayein insaan ab haiwan ban gayein। Rota hai yah dil bahot jab padhta hoon akhwaron me bachchiyon ko apne hawash ka shikar aur masumo ka ye katal kar gayein। wahshi darinde ban gayein insan ab haiwan ban gayein। Dharm ke nam par masumo ka katal tum kar gaye kisi ka beta kisi ka bhai kisi ke maang ka sindur tum chhin gaye। wahshi darinde ban gayein insan ab hawain ban gayein। sun lo ai dharm ke thekedaro na hoga tumse tumhara rab bhi khush kyuki masumo ke khoon se tum apne hatho ko rang gaye।wahshi darinde ban gayein insan ab haiwan ban gayein..।



Comments