Jai Hind Shayari

Army shayari,army status,26 january shayari
Jai hind shayari

है अरमान यही इस देश के आउ मैं भी काम। अपने खून का एक एक कतरा कर दूं देश के नाम। जब तक जिंदा हूं यारों मेरे सीने में बसेला सिर्फ हिंदुस्तान

Hai Arman Yehi Es Desh Ke Aau Main Bhi Kam Apne Khun Ka Ek Ek Katra Kardu Desh Ke Nam। Jab Tak Zinda Hoon Yaaro Mere Sine Me Basega Sirf Hindustan....


वतन परस्ती की चाहत हमारे दिल में है। वतन से मोहब्बत हमारे दिल में है। हम वो नहीं जो बिक जाते हैं चंद सिक्को के खातिर, वतन की मोहब्बत के आगे दुनिया भर की दौलत छोड़ जाएंगे। जो आए कभी मुसीबत बतन पर हंसते-हंसते वतन के खातिर कुर्बान हम हो जाएंगे।

Watan Parasti Ki Chahat Hamare Dil Me Hai। Watan Se Mohabbat Hamare Dil Me Hai। Hum Wo Nahi Jo Bik Jaate Hain Chand Sikko Ke Khatir, Watan Ki Mohabbat Ke Aage Duniya Bhar Ki Daulat Chhod Jayenge Jo Aaye Kabhi Musibat Batan par Hastey Hastey Watan Ke Khatir Kurban Hum Ho Jayenge

सरसों के खेतों की हरियाली। वह कोयल की मीठी बोली। गांव की सुध हवाएं मेरे दिल को बहुत भाए। मेरे सीने में बसा है हिंदुस्तान। दिल में है यह अरमान। मैं भी आऊं काश इस देश के काम।

Sarso Ke Kheto Ki Hariyali। Wah Koyal Ki Mithi Boli। Gaon Ki Sudh Hawayein Mere Dil Ko Bahut Bhaye। Mere Sine Me Basa Hai Hindustan Dil Me Hai Yah Arman Main Bhi Aaoon Kash Es Desh Ke Kam


Army shayari,army status,26 january shayari
Jai hind shayari

पिता की डांट भाई की लड़ाई मां का प्यार सब छोड़ आया हूं। ऐ वतन तेरे वास्ते मैं घर अपना छोड़ आया हूं। फौजी हूं इसलिए यारों घर से दूर सरहदों की रखवाली करने आया हूं। ऐ वतन तेरे वास्ते मैं घर अपना छोड़ आया हूं। मेरी कुर्बानी को यूं जाया ना करो। सरहदों की रखवाली मैं यहां करता हूं। देश को बांटने का तुम वहां काम ना करो। धर्म के ठेकेदारों कुछ तो शर्म करो। गोलियां सीने पर खाकर सरहदों की रखवाली हम करते हैं। अपने खून का एक एक कतरा वतन के नाम करते हैं......

Pita Ki daant Bhai Ki Ladai Maa Ka Pyar Sab Chhor Aaya Hoon। Aye Watan Tere Vaste Mein Ghar Apna Chhod Aaya Hoon। Fauji Hoon Isliye Yaaron Ghar Se Dur Sarhadon Ki Rakhwali Karne Aaya Hoon। Aye Watan Tere Vaste Main Ghar Apna Chhod Aaya Hoon। Meri Qurbani Ko Yoon Jaya Na Karo Sarhadon Ki Rakhwali Main Yahan Karta Hoon। Desh Ko Baatne Ka Tum Wahan Kam Na Karo। Dharm Ke Thekedaro Kuch Toh Sharm Karo। Goliyan Seene Par Kha Kar Sarhadon ki Rakhwali Hum Karte Hain। Apne Khoon ka Ek Ek Katra Watan Ke Naam Karte Hain........

Comments