Motivational Shayari In Hindi On Life


चाहतों के समुंदर में मैं गोते लगा रहा हूं। जीने की आस छोड़ चुका हूं फिर भी निरंतर जिंदगी की गाड़ी को आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहा हूं। कई बार मुझे हार का मुंह देखना पड़ा पर हार से कहा मैं घबरा रहा हूं।

जिंदगी सफलता असफलता सुख और दुख की एक सीढ़ी है आज असफलता का मुंह देखना पड़ा कल सफलता भी मिलेगी।

आज जीवन में दुख है तो कल सुख भी होगा। इसलिए सफलता असफलता सुख और दुख की परवाह किए बिना जीवन के हर पथ पर मैं अपने कदम बढ़ा रहा हूं।

चाहतों के समुंदर में मैं गोते लगा रहा हूं। जीने की आस छोड़ चुका हूं फिर भी निरंतर जिंदगी की गाड़ी को आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहा हूं।

असफलता सफलता की निशानी होती है। हर असफलता की एक कहानी होती है। देखो और गौर करो क्या कमी रह गई है तुम्हारी कहानी में, उठ खड़ा हो, कस लो कमर, जब तक सफलता ना मिले तुम यूं ही करते रहो संघर्ष।

मिलेगी तुम्हारी मंजिल तुम्हें बस थोड़ा कर लेना सब्र। जब तक सफलता ना मिले तुम करते रहना संघर्ष। होंगे कामयाब हमें है यकीन, जीवन में चाहे जितना भी गम आए हम होंगे ना गमगीन।

राहे मंजिल में कांटे हो तो क्या हम उन कांटो पर भी चल जाएंगे। भाग्य भरोसे क्यों बैठे हम, कामयाबी हम अपने मेहनत के बल पर पाएंगे। इन हाथों की लकीरें हम खुद ही बनाएंगे।

किस्मत में क्या लिखा है ये हम नहीं जानते हैं। लेकिन जो हम पाना चाहते हैं वे हम अपने दम पर पाएंगे। इन हाथों की लकीरें हम खुद ही बनाएंगे | किस्मत के भरोसे हम क्यों रहे कामयाबी हम अपने दम पर पाएंगे | इन हाथों की लकीरें हम खुद ही बनाएंगे | इन हाथों की लकीरें हम खुद ही बनाएंगे...

Chahato ke Samundar Mein Main gote laga raha hoon| Jeene Ki Aas Chhod chuka hoon Phir Bhi nirantar Zindagi ki gadi ko Aage badhane ka Prayas kar raha hoon| kai baar Mujhe Har muh dekhna pada par haar se kahan mai ghabra raha hoon..

Zindagi safalta asafalta Sukh aur Dukh Ki Ek Sidhi hai aaj asafalta ka muh dekhna Pada Kal safalta Bhi milegi Aaj Jeevan Mein dukh hai to kal Sukh Bhi Hoga| isliye safalta asafalta Sukh aur Dukh Ki Parwah kiye Bina Jeevan Ke Har Path Par Main Apne Kadam badha raha hoon...

Chahto ke Samundar Me Main Gote laga raha hoon| Jeene Ki Aas Chhod chuka hoon Phir Bhi nirantar Zindagi ki gadi ko Aage badhane ka Prayas kar raha hoon

Asafalta safalta Ki Nishani Hoti Hai| har Asafalta Ki Ek Kahani hoti hai| dekho aur Gaur karo kya Kami Reh Gayi Hai Tumhari Kahani Mein, uth Khada Ho kas lo Kamar Jab Tak safalta Na Mile Tum Yuhi karte raho Sangharsh..

Milegi Tumhari Manzil Tumhen Bas thoda sa Karlena Shabr| Jab Tak safalta Na Mile Tum karte rehna Sangharsh| Honge Kamyab Hame Hai Yakeen Jeevan Mein Chahe Jitna Bhi Gam Aaye Hum Honge Na gamgin..

Rahe Manzil Mein Kante Ho To Kya Hum Un kanton par bhi chal jayenge| Bhagya Bharose Kyon Baithe Hum kamyabi Hum Apne mehanat ke bal par Payenge| in Haathon Ki lakeeren Hum Khud Hi Banayenge

Kismat mein kya likha hai Yeh Hum Nahi Jante hain| lekin jo hum Pana Chahten Hain Hum Apne Dam par Paayenge in Hathon Ki Lakeeren Hum Khud Hi Banayenge | Kismat Ke Bharose Hum
kyu Rahen kamyabi Hum Apne Dam par Paayenge in Haathon Ki lakeeren Hum Khud Hi Banayenge| in Haathon Ki lakeeren Hum Khud Hi Banayenge..

रचेगें इतिहास हम मत घबरा मेरे यार वक्त आने वाला है बस थोड़ा सा कर ले इंतजार....

Rachenge Itihas Hum mat ghabra Mere Yaar Waqt aane wala hai bas thoda sa Karle Intezar

कब तक तुम यूं ही किस्मत को कोसोगे| भाग्य भरोसे कब तक बैठोगे| मिलती नहीं सफलता यूंही जीवन में| जी जान लगा दो तुम कामयाबी पाने में |संघर्ष करो जब तक ना मिले सफलता, तभी तो तुम कामयाब हो पाओगे अपने लक्ष्य को पाने में

Kab Tak tum Yuhi Kismat ko ko kosoge| Bhagya Bharose Kab Tak baithoge| Milti nahi safalta Yuhi Jeevan Mein| Jee Jaan laga do Tum kamyabi Pani Mein| Sangharsh karo Jab Tak Na Mile safalta Tabhi Toh Tum Kamyab Ho paoge Apne Lakshya Ko Paani Mein..

अपने लक्ष्य की ओर ध्यान दो ना भटको तुम अपने लक्ष्य को पाने में| हजार मुश्किलें पेश आएंगी तुम्हारे रास्ते में| धीरज और धैर्य से काम लेना तभी तो तुम कामयाब हो पाओगे अपने लक्ष्य को पाने में...

Apne Lakshya ki aor Dhyan do na Bhatko Tum Apne Lakshya Ko Pane Mein| hazar Mushkilen pesh aayengi Tumhare Raste Mein| Dheeraj aur dharye se kaam lena tabhi to Tum Kamyab ho paoge Apne Lakshya Ko Paane Mein..

रचते वही हैं इतिहास इस जमाने में| जो कई बार गिरते कई बार उठते, गिरकर संभलना जिन्हें आ जाता है| वही कामयाब हो पाते हैं मंजिल अपनी पाने में||

Rachte wahi hain Itihas Is Jamane mein| jo kai bar Girte kai bar uthte Girkar sambhalna Jinhe aa jata hai|| wahi Kamyab Ho paate Hain Manzil apni
Paani Mein||

कुछ किए ही सब कुछ मिल जाए उस में क्या रखा है|| मजा तो तब आता है जब मेहनत धैर्य संघर्ष के बल पर इंसान कामयाबी पाता है।|

Kuch Kiye Hai Sab Kuch Mil Jaye Isme Kya Rakha Hai|| Maza to tab aata hai Jab mehnat dharye sangharsh ke bal par insan kamyaabi pata hai||

निराश ना होना जिंदगी में कभी| सफलता मिलेगी तुम्हें तभी| जो थक हारकर छोड़ जाओगे| अपने लक्ष्य से मुंह फेर जाओगे| कामयाबी मिलने वाली होती है तुम्हें तभी||

Nirasha na Hona Zindagi Mein Kabhi|| safalta Milegi tumhe tabhi jo thak har kar Chod Jaoge| Apne Lakshya se muh Fer Jaoge| kamyabi Milne Wali hoti hai tumhe tabhi||

एक नन्ही सी चींटी कोशिशसें बार-बार करती है|
कई बार दीवार पर दाना लेकर चढ़ती है कई बार फिसलती है| अपने मेहनत से घबराकर अपनी मंजिल को छोड़ना उसे गवारा नहीं, आखिरकार उसकी मेहनत रंग लाती है गिरकर संभलना संभलकर फिर चलना उसे उसकी मंजिल तक पहुंचाती है|

Ek Nanhi Si chiti koshishe baar baar karti hai| Kai Baar diwar par dana Lekar chadhti Hai Kai baar fisalti hai| Apne mahnat se ghabra kar apni Manzil Ko Chhodna use gawara nahi, aakhirkar uski mehnat Rang lati Hai Girkar sambhalna sambhal kar Phir Chalna use uski Manzil Tak pahuchati Hai..

Comments