sad shayari in hindi with image

Hindi sad shayari
sad shayari in hindi with image

जमाने से वाकिफ जब मैं हुआ, बहुत मैं परेशान हुआ लोगों की अहमियत नहीं है यारों, पैसा है जेब में तो दोस्त मिलेंगे हजारों | अपनों को भी मैंने क्या खूब पहचाना | आते थे रोज जो घर में मेरे, आज कल बंद है आना जाना..।

Zamane Se waqif Jab Main Hua, Bahut Main Pareshan Hua | Logo Ki Ahmiyat Nahin Hai Yaron, Paisa Hai Zeb Mein To Dost Milenge Hazaaron | Apno Ko Bhi Maine Kya Khoob Pehchana | Aate The Roj Jo Ghar Mein Mere Aaj Kal Band Hai Aana Jana..।

क्या जमाना आ गया हर इंसान मतलबी लगता है मुझे चोट इतने खाए हैं इस दिल ने अब और चोट खाने से डर लगता है मुझे..।

Kya Zamana Aa Gaya Har Insaan Matlabi Lagta Hai Mujhe | Chot Itne khaaye Hain Is Dil Ne Ab To Muskurane Se Bhi Dar Lagta Hai Mujhe..।

कौन मारता है इस जमाने में एक दूजे के लिए | यहां तो जीते हैं सब खुद के लिए | अब तो हर चेहरा फरेबी लगता है मुझे, चोट इतने खाए हैं इस दिल ने दिल्लगी करने से भी डर लगता है मुझे..।

Kaun Marta Hai Is Zamane Mein Ek Duje Ke Liye | Yahan To Jeete Hain Sab Khud Ke Liye | Ab To Har Chehra Farebi Lagta Hai Mujhe | Chote Itne khaaye Hain Is Dil Ne Dillagi karne se Bhi Dar Lagta Hai Mujhe..।

इंसान इंसान के जो आए काम वही सच्चा इंसान | इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं, फिर चाहे आप हो सिख, इसाई, हिंदू या मुसलमान.।

Insan Insan Ke Jo Aaye kam wahi Hai Sachcha Insaan | Insaniyat Se Bada Koi Dharm Nahi, FIR Chahe aap Ho Sikh, Isai Hindu ya Musalman..।

दर्द दिल में इतना है पर मैं रोता नहीं | जानता हूं मैं लोगों की फितरत को इसलिए अपना दर्द किसी और से मैं कहता नहीं | पता नहीं आज जो दोस्त है, कल दुश्मन कब बन जाए | आपकी कमजोरियों का फायदा उठाएं इसलिए दर्द दिल मैं इतना है पर मैं रोता नहीं | जानता हूं मैं लोगों की फितरत इसलिए अपना दर्द किसी और से मैं कहता नहीं..।

Dard Dil Mein Itna Hai Par Mein Rota Nahi | Jaanta Hoon Mein Logon Ki Fitrat Ko Isliye Apna Dard Kisi Aur Se Main Kahta Nahin | Pata Nahin Aaj Jo Dost Hai Kal Dushman Kab Ban Jayen | Aap Ki Kamjoriyon Ka Fayda Uthayen | Isliye Dard Dil Mein Itna Hai Par Main Rota Nahi Jaanta Hoon Mein Logon Ki Fitrat Isliye Apna Dard Kisi Aur Se Main Karta Nahin..।

अब यकीन करें भी तो किस पर अब तो लोग फरेबी लगते हैं मुझे | जिंदगी में कई ऐसे लोगों से मिला हूं मैं जिनके चेहरे मे एक और चेहरा छिपा होता है | जो चेहरा दिखता है हमें यारों वे असली नहीं, असली चेहरा तो इस चेहरे के पीछे छिपा होता है..।

Ab yakin Karen Bhi To Kis Par Ab To Log Farebi Lagte Hain Mujhe | Zindagi Mein Kai Aise Logon Se Mila Hoon Main, Jinke Chehre Mein Ek Aur Chehra Chhipa Hota Hai | Jo Chehra Dikhta Hai Hamein Yaron Ve Asli Nahin, Asli Chehra To Is Chehre Ke Piche Chipa Hota Hai..।

Comments